Wednesday, January 21, 2009

उसका नाम है आज


!!उसका नाम है आज !!

हम दोषी हैं अनेक गलतियों और अनेक भूलों के।
लेकिन हमारा सर्वाधिक बुरा अपराध बच्चों को परित्यागना है।
जीवन के मूलस्रोत को उपेक्षित करना।
बहुत सी चीजें जो हम चाहते हैं,प्रतीक्षा कर सकती है।
बच्चा नहीं कर सकता।यह सही समय है जब उसकी हड्डियां बन रही हैं।
उसका खून बन रहा है।
और उसकी इन्द्रियां विकसित हो रही हैं।
उसके लिए हम उत्तर नहीं दे सकते 'कल'।
उसका नाम है 'आज'।
() चिली की कवियित्री गबरिएला मिस्टराल (1889-1957) जिन्हें सन् 1945 में साहित्य के लिए नोबेल पुरस्कार मिला था।इस कविता में निहित मानवीय भावनाएं और विचार हमारे
लिए अनुकरणीय ही नही एक सबक भी है ......!


26 comments:

  1. सत्य की पैनी धार से पूर्ण रचना,
    बहुत अच्छी....

    ReplyDelete
  2. shukriyaa,

    is adbut kriti se ru ba ru karane kaa,

    mere blog par bhi aaiye.

    danyavaad

    ReplyDelete
  3. जीवन के मूलस्रोत को उपेक्षित करना।
    बहुत सी चीजें जो हम चाहते हैं,प्रतीक्षा कर सकती है।
    बच्चा नहीं कर सकता।यह सही समय है जब उसकी हड्डियां बन रही हैं।
    उसका खून बन रहा है।
    और उसकी इन्द्रियां विकसित हो रही हैं।
    उसके लिए हम उत्तर नहीं दे सकते 'कल'।
    उसका नाम है 'आज'।

    कोई भी पंक्ति, कोई भी शब्द छोड़ नही पाया मैं उधृत करने से...बहुत ही हृदयस्पर्शी भावः पिरोया है आपने अपने शब्दों में.

    ReplyDelete
  4. अच्छी रचना कहीं भी हो मन को उद्वेलित करती है !बहुत खूब पूर्णिमा जी !निरंतर लिखती रहें !

    ReplyDelete
  5. Poornima ji,
    Bahut hee achchhee rachana ke sath apne blog kee shuruat kee hai.Badhai.
    Poonam

    ReplyDelete
  6. बहुत सुंदर...आपके इस सुंदर से चिटठे के साथ आपका ब्‍लाग जगत में स्‍वागत है.....आशा है , आप अपनी प्रतिभा से हिन्‍दी चिटठा जगत को समृद्ध करने और हिन्‍दी पाठको को ज्ञान बांटने के साथ साथ खुद भी सफलता प्राप्‍त करेंगे .....हमारी शुभकामनाएं आपके साथ हैं।

    ReplyDelete
  7. आने वाले कल को
    आज ही मिटाना
    उसे बीता हुआ कल बनाना
    प्रकृति को नकारना
    एक जघन्‍य अपराध है
    और इस अपराधी को रोका नहीं जा सका है
    दण्‍ड तो दूर की बात है
    सच
    आपकी रचना में कुछ और बात है

    ReplyDelete
  8. चिटठा जगत में स्वागतम !

    बच्चे आज की खुशी और कल के भविष्य हैं, देश और समाज के|जिस समाज में बच्चों की एक बड़ी संख्या का ये हाल होगा, उसका भविष्य ?
    वे परिस्थितयां जो बच्चों को खेल पढ़ाई और शिक्षा से वंचित कराती हैं, और वे लोग जो इसके लिए जिम्मेदार हैं,
    जो सक्षम होते हुए भी इनके लिए इमानदार प्रयास नहीं करना चाहते

    अपने को सभ्य कहलवाने के हकदार नहीं हैं,

    यह शर्मनाक और दुखद है |

    ReplyDelete
  9. बहुत सुंदरअभिव्यक्ति सशक्त रचना, सार्थक लेखन

    ReplyDelete
  10. अत्यन्त मार्मिक एवं ह्रदयस्पर्शी पंक्तियाँ हैं !
    सीधे दिल के भीतर घर करती हैं !

    १९४५ में लिखी गई कविता
    आज भी कितनी सामयिक है !

    इतनी अच्छी कविता से रु-ब-रू
    कराने के लिए आपका आभार !

    मेरी शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  11. bahut sunder kavita
    aaj bhi samayik

    ReplyDelete
  12. ek samwedansheel rachana padhwane k liye dhanyabad.

    ---------------------------------"VISHAL"

    ReplyDelete
  13. bahut hi adbhut.........likhne wali ko mera poorjosh aur garmjosh salaam.........!!

    ReplyDelete
  14. बस यूँ ही चलता रहे यह क्रम .....चिटठा जगत में स्वागतम !

    ReplyDelete
  15. बहुत खूब पूर्णिमा जी !निरंतर लिखती रहें !

    ReplyDelete
  16. आज आपका ब्लॉग देखा बहुत अच्छा लगा. मेरी कामना है की आपके शब्दों को नए रूप, नए अर्थ और व्यापक दृष्टि मिले जिससे वे जन-सरोकारों की सशक्त अभिव्यक्ति का माध्यम बन सकें.....
    कभी समय निकाल कर मेरे ब्लॉग पर पधारें.
    http://www.hindi-nikash.blogspot.com

    सादर-
    आनंदकृष्ण, जबलपुर.

    ReplyDelete
  17. सुन्दर भावानुवाद. बधाई.

    गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाऐं.

    ReplyDelete
  18. क्या प्रतिक्रिया लिखूं...... कुछ समझ में नही आ रहा है.
    बस दिल को छूते हुए निकल गयी हैं ये पंक्तियाँ .

    (अगर आप बिना किसी हर्रे फिटकरी के कोरियन लैंगुएज सीखना चाहते हैं तो मेरे ब्लॉग http://koreanacademy.blogspot.com/ पर आएं |)

    ReplyDelete
  19. सुन्दर ब्लॉग...सुन्दर रचना...बधाई !!
    -----------------------------------
    60 वें गणतंत्र दिवस के पावन-पर्व पर आपको ढेरों शुभकामनायें !! ''शब्द-शिखर'' पर ''लोक चेतना में स्वाधीनता की लय" के माध्यम से इसे महसूस करें और अपनी राय दें !!!

    ReplyDelete
  20. Poornima ji ,
    apke blog par bahut hee achchhee aur aj ke samayik yatharth ko chitrit karne valee kavita padhee.badhai.main bhee bachchon ke hit men ek chhotee koshish kar raha hoon.jise ap mere blog par dekh saktee hain.
    Hemant Kumar

    ReplyDelete
  21. hmmmmmmmm good post

    shayari,jokes,recipes,sms,lyrics and much more so visit

    copy link's
    www.discobhangra.com

    ReplyDelete
  22. शब्द वैचारिक मंथन के लिए प्रेरित करते हैं । भाव और विचार की अच्छी प्रस्तुति तथा भाषा की जनपक्षधरता लेखन को प्रखरता प्रदान कर रहे हैं ।

    मैने अपने ब्लाग पर एक लेख लिखा है-आत्मविश्वास के सहारे जीतें जिंदगी की जंग-समय हो तो इसे पढ़ें और कमेंट भी दें-

    http://www.ashokvichar.blogspot.com

    ReplyDelete
  23. achha anubhav raha aapke blog par aane ka.....kirpya mere blog par bhi padharen..


    Jai Ho Magalmay Ho

    ReplyDelete
  24. dhanyaapka blog bahoot achcha laga. vichar hi manav ke jeevan darshan hote hai.isee tarah likhate rahe .dhanyabad

    ReplyDelete
  25. रसात्मक और सुंदर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete