Monday, October 26, 2009

परिकल्पना ने अपने नाम को सार्थक किया

जी हाँ ! आज़कल परिकल्पना पर चल रही है वर्ष-२००९ की महत्वपूर्ण चिटठा चर्चा । जैसे-जैसे यह चिट्ठा चर्चा क्रम-दर -क्रम आगे बढ़ रही है , रोमांच पैदा कर रही है । सबसे सुखद बात तो यह है कि यह चर्चा अक्तूबर के सप्ताहंत से शुरू हुयी है और दिसंबर के अंत में समाप्त होगी ....मैं तो यही कहूंगी कि वर्ष-२००७ में जिस चर्चा कि शुरुआत की वह लगातार पूरी प्रमाणिकता के साथ जारी है,निश्चय ही परिकल्पना ने अपने नाम को सार्थक किया है । इस चर्चा को पढ़ने के लिए चलिए चलते हैं परिकल्पना पर ।

4 comments:

  1. बढ़िया प्रस्तुति पर हार्दिक बधाई.
    ढेर सारी शुभकामनायें.

    SANJAY KUMAR
    HARYANA
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    ReplyDelete
  2. अब परिकल्‍पना पर ब्‍लॉग उत्‍सव चल रहा है। उसकी पोस्‍ट नहीं लगायेंगी पूर्णिमा।
    और हिन्‍दी की टिप्‍पणी के रास्‍ते में अंग्रेजी की वर्ड वेरीफिकेशन

    इसे भी हटायेंगी पूर्णिमा।

    ReplyDelete